मांगें नहीं मानी तो 8 से विधानसभा के समक्ष धरना-प्रदर्शन करेंगे होमगार्ड के जवान


झारखंड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन ने डीसी ऑफिस के समक्ष धरना देकर दी चेतावनी

बिहार की तरह मानदेय प्रतिदिन 500 रुपये से बढ़ाकर 774 रुपये करने की मुख्यमंत्री से की मांग


  • जमशेदपुर : झारखंड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन ने बिहार की तरह झारखंड के होमगार्ड जवानों को भी मानदेय नियमित ड्यूटी, कर्मचारी भविष्य निधि योजना का लाभ और रिटायरमेंट के बाद एकमुश्त भुगतान नहीं किए जाने पर 8 मार्च को विधानसभा के पास अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन की चेतावनी दी है.
  • एसोसिएशन ने अपनी मांगों को लेकर सोमवार को डीसी ऑफिस के सामने धरना दिया. एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री को संबोधित चार सूत्री मांग पत्र उपायुक्त को सौंपा है. इस मांग पत्र में समान काम के लिए समान वेतन अर्थात बिहार के होमागार्ड जवान को मिल रहे 774 रुपये प्रतिदिन मानदेय का भुगतान करने की मांग की गई है. उन्हें शिकायत है कि झारखंड में अभी भी प्रतिदिन मात्र 500 रुपये दिया जा रहा है.
  • उन्होंने बिहार की तरह नियमित ड्यूटी देने की भी मांग की है. उनका कहना है कि बिहार में सभी सरकारी विभागों में सुरक्षा का कार्य हेतु केवल होमगार्ड जवानों को ही प्रतिनियुक्त किया जाता है. परंतु झारखंड में यह काम निजी सुरक्षाकर्मियों से लिया जाता है. यही नहीं यहां के जवानों को दो या चार महीने के अंतराल पर ड्यूटी दी जाती है.
  • उन्होंने बिहार की तरह कर्मचारी भविष्यनिधि का लाभ और सेवानिवृत्त के पश्चात एकमुश्क भुगतान की भी मांग की है. बिहार में 60 साल पूरा करने वाले जवानों को एकमुश्त डेढ़ लाख रुपये का भुगतान किया जाता है. एसोसिएशन के प्रमंडलीय सचिव विनय कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को याद दिलाया है कि विधानसभा चुनाव से पूर्व उन्होंने कहा था कि अभी मेरे पास कलम की ताकत नहीं है जिसदिन मुझे कलम की ताकत मिलेगी उस दिन होमगार्ड के जवानेां की मांगों पर कार्रवाई करूंगा.

Leave a Reply