झारखंड के पाँच मेडिकल कॉलेजों और रिम्स के सीनियर रेज़िडेंट डॉक्टर एरियर के लिए आंदोलन की राह पर

जमशेदपुर: अब झारखंड के सभी पांचों मेडिकल कॉलेज और रिम्स के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टरों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जहां सोमवार से राज्य भर के सभी सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर काला बिल्ला लगाकर सरकार का विरोध शुरू कर दिया है।

इधर जमशेदपुर में भी कोल्हान के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एमजीएम मेडिकल कॉलेज अस्पताल के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर भी काला बिल्ला लगाकर सरकार की नीतियों का विरोध जता रहे हैं।

इस संबंध में डॉक्टरों ने बताया, कि जनवरी 2016 से सातवें वेतन आयोग की सिफारिश की गई, जबकि उन्हें 2019 से सातवें वेतनमान का लाभ मिलना शुरू हुआ। इस बीच इन्हें 3 साल का बकाया एरियर अब तक भुगतान नहीं किया गया है।

इन्होंने बताया, कि इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग से लेकर सरकार के प्रतिनिधियों तक इन्होंने अपनी बातों को पहुंचाया है, बावजूद इसके इन्हें बकाया एरियर का भुगतान नहीं मिल रहा है। इन्होंने बताया, कि जूनियर रेजिडेंट से लेकर सीनियर रेजिडेंट तक उन्होंने राज्य में सेवा दी है, लेकिन राज्य सरकार इनकी मांगों को दरकिनार कर इनका हौसला तोड़ने का काम कर रही है।

वहीं इन्होंने एक हफ्ते के भीतर सरकार से इस संबंध में फैसला लेने का अनुरोध किया है। इन्होंने कहा है, कि एक हफ्ते के बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी। वैसे इन्होंने कार्य बहिष्कार की भी चेतावनी दी है। वहीं एक हफ्ते तक काला बिल्ला लगाकर फिलहाल सरकार का ध्यान आकर्षित कराये जाने की बात उन्होंने कही। वैसे उन्होंने कहा है, कि इस दौरान इमरजेंसी सेवा प्रभावित होने नहीं दिया जाएगा।

Leave a Reply