चौकीदार-दफादार पंचायत ने नौ सूत्री मांगों को लेकर उपायुक्त कार्यालय पर दिया धरना

जमशेदपुर : झारखंड राज्य दफादार-चौकीदार पंचायत में नौ सूत्री मांगों को लेकर उपायुक्त कार्यालय के समक्ष सोमवार को धरना दिया. प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण दयाल सिंह ने इस धरना का नेतृत्व किया. बाद में सिंह के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने उपायुक्त को ज्ञापान सौंपा.

पंचायत का मानना है कि 1 जनवरी 1990 के बाद रिटायर्ड चौकीदार-दफादार के आश्रितों की नियुक्ति पूर्वी सिंहभूम जिले में नहीं हुई है. जबकि झारखंड के अन्य जिलों में नौकरी दी गई है. इसकी वजह से जिले में आश्रित चौकीदार बिना वेतन के काम करते आ रहे हैं. यह सरकारी आदेशों का उल्लंघन तो है ही घोर अन्याय भी है.

उनके अनुसार इसके संबंध में झारखंड सरकार के गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने पत्रांक-5020 दिनांक 11-09-2017 लागू किया था जिसके अनुसार एसीपी और एमएसीपी का लाभ भी देना था जो अभी तक नहीं दिया गया.

इसके अलावा सेवा पुस्तिका सत्यापित और संपुष्टि करना मैनुअल में किए गए प्रावधानों के अनुसार बैंक ड्यूटी, कैदी स्कॉट, रोड गश्ती और डाक ड्यूटी लगाने पर रोक लगाने का आदेश एसपी और सभी सीओ एवं थाना प्रभारियों को दिया जाए. माह के अंतिम सप्ताह में वेतन भुगतान, वर्दी के आपूर्ति के लिए 10 हजार रुपये नकद भुगतान प्रतिवर्ष पुलिसकर्मियों की तरह, साल में 13 माह के वेतन का भुगतान और चौकीदार दफादार पंचायत कार्यालय हेतु सरायकेला में 21 डिसमिल जमीन आवंटित करने की मांगें शामिल हैं.

धरना में जिला अध्यक्ष पार्थ सारथी दत्ता सहित दर्जनों चौकीदार-दफादार

Leave a Reply