जीएसटी को सरल बनाने की मांग पर कैट का भारत बंद शुक्रवार 26 फरवरी को

जमशेदपुर में सिहंभूम चैंबर ने झोंकी ताकत, सोंथालिया के प्रभाव की होगी परीक्षा

रांची में झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स ने नैतिक समर्थन दिया , निर्देश नहीं

जमशेदपुरः व्यापारियों के शीर्ष संगठन द कनफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रडेर्स यानी कैट के आह्वान पर 26 फरवरी शुक्रवार को भारत बंद का आह्वान किया गया है. जमशेदपुर, रांची. धनबाद. हजारीबाग डालटेनगंज समेत पूरे झारखंड में भी इसे सफल बनाने की रणनीति पर कारोबारी व उनके संगठन काम कर रहे हैं.

कैट ने भारत बंद का आह्वान जीएसटी (GST) को सरल बनाने की मांग को लेकर किया है.
जमशेदपुर में कोल्हान के सबसे बड़े कारोबारी संगठन सिहभूम चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज ने विभिन्न संगठकों को साथ जोड़कर भारत बंद को ऐतिहासिक रूप से सफल बनाने में पूरी ताकत झोंक दी है. जमशेदपुर के एक अन्य कारोबारी संगठन जमशेदपुर चैंबर आफ कामर्स ने भी भारत बंद का पुरजोर तरीके से समर्थन देने की घोषणा की.


कैट के भारत बंद का जमशेदपुर के संदर्भ में इसलिए भी खास महत्व है क्योंकि कैट के राष्ट्रीय पदाधिकारी सुरेश सोंथालिया जमशेदपुर से ही संबंध रखते हैं और वे सिहंभूम चैंबर के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. इस तरह से देखा जाए तो बंद की सफलता से सोंथालिया के प्रभाव की भी परीक्षा होगी.


दूसरी ओर रांची में झारखंड चेंबर ऑफ कॉमर्स ने भी इस बंद को नैतिक समर्थन देने की बात कही है,. संगठन के अध्यक्ष प्रवीन जैन छाबड़ा ने कहा संगठन ने तय किया है कि इसकी सभी जिला इकाइयां वित्त मंत्रालय को ज्ञापन भेजेंगी.


व्यापारी की मर्जी पर होगा बंद
अध्यक्ष ने कहा कि शुक्रवार को भारत बंद के लिए व्यापारियों पर कोई दबाव नहीं डाला जाएगा. संगठन ने ऐसा कोई निर्देश भी नहीं जारी किया है.

यह हर व्यपारी की इच्छा पर निर्भर करेगा कि वह बंद में शामिल होगा या नहीं. उन्होंने कहा कि नैतिक समर्थन का मतलब ही होता है कि कारोबार बंद करना या नहीं करना यह व्यापारी की अपनी मर्जी पर निर्भर करता है. इसके लिए झारखंड चेंबर ऑफ कॉमर्स के द्वारा किसी तरह की कोई गाइडलाइन जारी नहीं की जाएगी।

Leave a Reply