आम बजट: सोच दीर्घकालीन, नज़र आत्मनिर्भरता पर

बिद्युत बरण महतो

बिद्युत महतो

कोरोना महामारी काल के पश्चात 2021-22 का बजट एक दीर्घकालीन सोच के तहत आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रस्तुत किया गया बजट है. कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई 2021 में जारी है. यह देश का पहला डिजिटल केन्द्रीय बजट है. इस बजट में देश के सर्वांगीण विकास के लिए हर क्षेत्र का ध्यान रखा गया है.

1) टैक्स स्लैब-

कोरोना काल के पश्चात् भी टैक्स स्लैब को यथावत रखना एक अत्यंत साहसिक निर्णय है. सभी आशंकाओं को निर्मूल करते हुए बजट में टैक्स गत वर्ष की भांति यथावत रखा गया है. इससे उद्योग, व्यवसाय, मजदूर और आम जनता में प्रसन्नता है.

2)बैंकिंग सेक्टर-

बैंकिंग सेक्टर में नया जान फूंकने के लिए जहां एक और सरकारी बैंको में 20000 करोड़ की पूंजी डालने की व्यवस्था की गई है. वहीं दूसरी और एन0पी0ए0 की समस्या से निपटने के लिए बैड बैंक का ऐलान किया गया है.

3) स्वास्थ्य

क)बजट में वित्त वर्ष 2021-22 में स्वास्थ्य और खुशहाली में 2,23,846 करोड़ रूपये का व्यय रखा गया है, जबकि 2020-21 में यह 94,452 करोड़ रूपये था. यह 137 प्रतिशत बृद्धि को दर्शाता है.

ख) वर्ष 2021-22 में कोविड-19 टीके के लिए 35000 करोड़ रूपये आवंटन

ग) प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत स्वस्थ भारत योजना के लिए 6 वर्ष में 64,180 करोड रूपये व्यय किए जाऐंगे.

4) जल आपूर्ति का सर्वव्यापी कवरेज-

क) जल जीवन मिशन (शहरी) के लिए पांच वर्ष में 2,87,000 करोड़ रूपये का परिव्यय किया जाएगा.

ख)2.86 करोड़ परिवारों को नल कनेक्शन दिया जाएगा.

5) स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत

-शहरी स्वच्छ भारत मिशन 2.0 के लिए पांच वर्ष की अवधि में 1,41,678 करोड़ रूपये का कुल वित्तीय आवंटन.

6) स्क्रैपिंग नीति-

पुराने और अन उपयुक्त वाहनों को हटाने के लिए एक स्वैच्छिक वाहन स्क्रैपिंग नीति.

क) निजी वाहनों के मामले में 20 वर्ष के बाद

ख) वाणिज्विक वाहनों के मामले में 15 वर्ष बाद

7) सड़क एवं राजमार्ग सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय-

सड़क एवं राजमार्ग सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय को 1,81,101 लाख करोड़ रूपये का अब तक का सर्वाधिक आवंटन किया जाएगा.

8)रेलवे:-

क)रेलवे के लिए 1,10,055 करोड़ रूपये की राशि प्रदान की गई है.

ख)यात्रियों की सुगमता सुरक्षा के उपाय.

ग)यात्रियों के बेहतर यात्रा अनुभव देने के लिए पर्यटक रूटों पर सौन्दर्यपरक रूप से डिजाइन किए गए बिस्टाडोम एल0एच0वी0 कोच का आरंभ करेंगे.

घ)भारतीय रेलवे के उच्च घनत्व नेटवर्क और उच्च उपयोग किए जाने वाले नेटवर्क रूटों को स्वचालित ट्रेैन संरक्षण प्रणाली प्रदान की जाएगी, जो मानवीय त्रुटि के कारण ट्रैनों के टकरानें जैसी दुर्घटनाओं को समाप्त करेगी.

9)विद्युत अवसंरचना

क)पिछले 6 सालों में स्थापित क्षमता में 139 गीगा वाट्स का इजाफा किया गया है. और 1.41 लाख किलोमीटर ट्रांसमिशन लाईनें जोड़ी गई हैं, 2.8 करोड़ अतिरिक्त घरों में कनेक्शन दिए गए है.

ख)एैसा फ्रेम वर्क तैयार किए जाएगा जिसमें विद्युत वितरण कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़े और उपभोक्ताओं को विकल्प चुननु का अवसर मिले.

ग)आने वाले 5 वर्षों में 3,05,984 करोड़ रूपये के व्यय से एक परिष्कृत और सुधार आधारित तथा परिणाम संबंध विद्युत वितरण क्षेत्र योजना शुरू की जाएगी.

घ)2021-22 में एक बृहद हाईड्रोजन एनर्जी मिशन शुरू किया जाएगा.

10) पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस:- उज्जवला योजना का विस्तार कर इसमें एक करोड़ और लाभार्थियों को शामिल किया जाएगा.

11) कृषि:-

ख)सभी जिन्सों के लिए उत्पादन लागत का कम से कम डेढ़ गुणा न्युनतम समर्थन मुल्य (डैच्) सुनिश्चित करना.

ग) खरीद में काफी बढ़ोत्तरी के कारण किसानों को भुगतान में निम्नानुसार बढ़ोत्तरी हुई.

(करोड़ में)

अनाज 2013-14 2019-20 2020-21

गेहूँ 33,874 रूपए 62,802 रूपए 75,060 रूपए

चावल 63,928 रूपए 141,930 रूपए 172,752 रूपए

दालें 236 रूपए 8,285 रूपए 10,530 रूपए

घ) स्वामित्व योजना सभी राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों में विस्तार किया जाएगा. 1241 गांवों में 1.80 लाख संपत्ति मालिकों को कार्ड पहले ही उपलब्ध कराए जा चुके हैं.

12) प्रवासी कामगार और मजदूर

क)देश मेें कहीं भी राशन का दावा करने के लिए लाभार्थियों के लिए वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना-इसका प्रवासी कामगारों ने सबसे अधिक लाभ उठाया है.

ख) योजना लागु होने से अब तक 32 राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में 86 प्रतिशत लाभार्थियों को शामिल किया गया.

13) एम0एस0एम0ई0 (डैडम्)-

एम0एस0एम0ई0 (डैडम्) क्षेत्र के लिए बजट में 15700 करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई है, जो कि इस वर्ष के बजट के अनुमान से दोगुणा है.

14) विद्यालय शिक्षा:-

क) गैर-सरकारी संगठनों/निजी स्कूलों/राज्यों के साथ भागीदारी में 100 नए सैनिक स्कूल स्थापित किए जाऐंगे.

ख)अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण-जनजातीय क्षेत्रों में 750 एकलव्य मॉडल रिहायशी स्कूलों की स्थापना करने का लक्ष्य है.

15) भारत के इतिहास में पहली डिजिटल जनगणना के लिए 3,768 करोड़ रूपये आवंटित.

16) कोविड-19 महामारी के दौरान उपलब्धियों और मील के पत्थर:-

क)प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पी0एम0जी0के0वाई0)

ख) 2.76 लाख करोड़ रूपये का प्रावधान

ग) 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज

घ) 8 करोड़ परिवारों को मुफ्त रसोई गैस

च) 40 करोड़ से अधि किसानों, महिलाओं, बुजुर्गों, गरीबों और जरूरतमन्दों को सीधे नकद धनराशि का अंतरण.

17) 2021-भारतीय इतिहास में उपलब्धियों का वर्ष:-

क)भारत की आजादी का 75वां वर्ष.

ख)भारत के गोवा के शामिल होने के 60 साल पूरे.

ग)1971 में हुए भारत पाकिस्तान युद्ध के 50 वर्ष पूरे.

घ)स्वतंत्र भारत की आठवीं जनगणना का वर्ष

च) ब्रिक्स की अध्यक्षता के लिए अब भारत की बारी

छ) चंद्रयान-3 मिशन वर्ष.

ज) हरिद्वार महाकुंभ.

आत्मनिर्भर भारत के लिए विजन:- आत्मनिर्भरता कोई नया आईडिया नहीं है, प्राचीन भारत आत्मनिर्भर था और पूरी दुनिया का एक मात्र कारोबारी केन्द्र था. आत्मनिर्भर भारत-यह 130 करोड़ भारतीयों की स्पष्ट अभिव्यक्ति है जिन्हें अपनी क्षमता और कौशल पर पूर्ण भरोसा है.

(लेखक जमशेदपुर झारखंड से लोक सभा के सदस्य हैं)

Leave a Reply